Oct 11, 2018
30 Views
Comments Off on अगर आप बिना देखे और बिना सोचे करते हैं किसी भी ऐप को अपने मोबाइल में इनस्टॉल तो हो जाये सचेत……….

अगर आप बिना देखे और बिना सोचे करते हैं किसी भी ऐप को अपने मोबाइल में इनस्टॉल तो हो जाये सचेत……….

Written by

अगर आप बिना चेक किए किसी फेक ऐप का इस्तेमाल करते हैं तो इससे हैकर्स आपके फोन में सेंधमारी कर सकते हैं

जब भी हमें किसी ऐप की जरूरत होती है तो सबसे पहले हम प्ले स्टोर पर जाते हैं और उस ऐप को डाउनलोड कर इस्तेमाल करना शुरू कर देते हैं. लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि वे ऐप हमारे हिसाब से नहीं चलते हैं या फिर उनमें अलग-अलग तरीके की परेशानी आने लगती है।

इसके पीछे का कारण यह भी हो सकता है कि जल्दी में हमने कोई फेक ऐप डाउनलोड कर लिया हो और उसका इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। इस तरीके के फर्जी ऐप्स का इस्तेमाल हमारे पर्सनल इन्फॉर्मेशन को रिवील कर सकता है इसके अलावा हमारे लिए कई और खतरे भी बढ़ सकते हैं जैसे फोन में वायरस का आना या फिर हैकर्स हमारे फोन में सेंधमारी कर सकते हैं। ऐसे में यह सबसे जरूरी है कि हम फेक ऐप की पहचान करें। तो आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताने जा रहे हैं जिससे आप आसानी से फेक और रियल ऐप्स की पहचान कर सकते हैं।..

पब्लिशर की करें पहचान- अगर आप कोई ऐप डाउनलोड करने जा रहे हैं तो सबसे पहले यह चेक करें कि इस ऐप को किस कंपनी ने पब्लिश किया है या फिर बनाया है। कई बार हैकर्स थोड़ा ट्विस्ट कर ऐप्स में बदलाव कर देते हैं जिसके कारण यूजर्स इनकी पहचान नहीं कर पाते। इसलिए जब भी आप कोई ऐप डाउनलोड करने जा रहे हैं तो सबसे पहले उसके पब्लिशर का नाम पढ़ लें।

रिव्यू पर डालें नज़र– जो भी ऐप आप डाउनलोड करने जा रहे हैं उसका कस्टमर रिव्यू जरूर पढ़ें. इसमें आपको ऐप के बारे में लोगों कि प्रतिक्रिया मिलेगी कि यह ऐप फर्जी है या फिर असली।

ऐप के अपडेशन के तारीख की करें जांच– जिस भी ऐप को आप डाउनलोड करने जा रहे हैं उसकी लास्ट अपडेट और प्ले स्टोर पर अपलोड होने की तारीख के बारे में जरूर जांच कर लें। अगर आपको इस बारे में किसी तरह की परेशानी हो रही है तो आप उससे जुड़ी खबर को पढ़ कर जानकारी ले सकते हैं। फिर भी अगर आपको लगता है कि यह फेक ऐप हो सकता है तो उसे डाउनलोड न करें।

ऐप के नाम की स्पेलिंग करें चेक– ऐसा होता है कि प्लेस्टोर पर एक नाम से कई ऐप दिखते हैं इसमें मात्र कुछ स्पेलिंग्स का बदलाव होता है, जिन्हें कॉपी करके बनाया जाता है। ऐसे में अगर आप किसी ऐप को डाउनलोड कर रहे हैं तो उसके स्पेलिंग की सही जानकारी रखें और उसे जांच कर ही ऐप डाउनलोड करें।

 

Article Categories:
Technology