Oct 6, 2018
47 Views
Comments Off on आप अपने खुद के रसोई घर में पाए जाने वाले एंटीबायोटिक्स के इस्तेमाल से पा सकते हैं राहत

आप अपने खुद के रसोई घर में पाए जाने वाले एंटीबायोटिक्स के इस्तेमाल से पा सकते हैं राहत

Written by

जब आपको प्रभावी एंटीबायोटिक्स की आवश्यकता होती है तो आपको दवाएं लेनी पड़ती है। जबकि एंटीबायोटिक्स के रूप में ली गई अधिकांश दवाएं बहुत प्रभावी होती हैं, लेकिन वे साइड इफेक्ट्स का खतरा भी पैदा करते हैं और आप यह जानकर आश्चर्यचकित होंगे कि आप साइड इफेक्ट्स के जोखिम से बच सकते हैं। आप रसोईघर में ही एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

रसोईघर में पाए जाने वाले एंटीबायोटिक्स की मदद से भी वही राहत प्राप्त कर सकते हैं। एंटीबायोटिक्स का उपयोग जीवाणु विकसित होने से रोकने के लिए किया जाता है। वे बैक्टीरिया के विकास को ख़त्म करने या घटाने में इलाज करते हैं। एंटीबायोटिक्स दांत संक्रमण, त्वचा संक्रमण, गले में संक्रमण, खांसी  इत्यादि जैसे विभिन्न संक्रमणों का इलाज कर सकते हैं।

घर पर कुछ प्राकृतिक एंटीबायोटिक दवाएं हैं जो आपके रसोईघर में हर समय होनी चाहिए। आज हम ऐसे ही कुछ घरेलू एंटीबायोटिक्स के बारे में ही जानकारी देने जा रहे हैं –

लहसुन

Garlic (लहसुन)

कच्चे लहसुन में एलिसिन होता है, जो पेनिसिलिन के समान होता है। लहसुन अद्भुत एंटीबायोटिक, विरोधी भड़काऊ, विरोधी कवक, विरोधी परजीवी, विरोधी वायरल, और एंटीऑक्सीडेंट गुण प्रदान करता है। हल्की बीमारियों, गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए इसका इस्तेमाल कई प्राचीन चिकित्सा प्रणालियों में किया गया है।

कच्चे सेब का सिरका

Apple Cider Vinegar (कच्चे सेब का सिरका)

कच्चे सेब का सिरका दैनिक खुराक के दूरगामी लाभों में से एक है। इसमें एंटीबायोटिक और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने और कैंसर के खतरे को कम करने के लिए सहायक है।

शहद

Honey (शहद)

प्राचीन काल से शहद को सबसे अच्छा प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स और एंटीसेप्टिक्स माना जाता है। शहद में एंजाइम होता है जो शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड जारी करता है। इसमें उच्च चीनी सामग्री भी होती है, जो कुछ बैक्टीरिया के विकास को रोकने में मदद कर सकती है। यह वजन को घटाने में भी मदद करता है

गोभी

Cauliflower (गोभी)

गोभी भी एंटीबायोटिक का ही कार्य करती है क्योंकि इसमें सल्फर यौगिक होते हैं जो कैंसर के रोग से लड़ने में मदद करता है। यह आपकी रोजमर्रा की बीमारी से लड़ने में बहुत मदद करता है।

लौंग

लौंग (Cloves)

लौंग दंत चिकित्सा में उपयोग किया गया है। जी हां अगर आपके दांत में भयानक दर्द हो रहा है तो आप लौंग को अपने दांत के नीचे रखकर कुछ देर दबाये रखें। इससे आपको दांत के दर्द से जल्द ही राहत मिल जायेगा।

 

Article Categories:
Health & Beauty